Categories
Authors List
Discount
Buy More, Save More!
> Minimum 10% discount on all orders
> 15% discount if the order amount is over Rs. 8000
> 20% discount if the order amount is over Rs. 25,000
--
Salakho Ke Piche (Bharat Ke Prasiddh Logo Ke Jail Se Jude Kisse)
Sunetra Chaudhary
Author Sunetra Chaudhary
Publisher Manjul Publishing House
ISBN 9788183226561
No. Of Pages 240
Edition 2017
Format Paperback
Language Hindi
Price रु 295.00
Discount(%) 0.00
Quantity
Discount
Buy More, Save More!
Minimum 10% discount on all orders
15% discount if the order amount is over Rs. 8000
20% discount if the order amount is over Rs. 25,000
636491683413799107.jpg 636491683413799107.jpg 636491683413799107.jpg
 

Description

सलाखों के पीछे - सुनेत्रा चौधरी
 

 

Salakho Ke Piche (Bharat Ke Prasiddh Logo Ke Jail Se Jude Kisse) By Sunetra Chaudhary

 

भारत के प्रसिद्ध लोगों के जेल से जुड़े किस्से


लोग कहते हैं कि जेल सबको बराबरी पर ला देने वाली हो सकती है - लेकिन क्या ये बात उस स्थिति में लागू होती है जब आप किसी हिंदुस्तानी जेल में वी.आई.पी. कैदी हों? शायद नहीं |


'अगर आप 1000 रुपय चुरा लें तो हवलदार मार-मार कर आपकी हालत ख़राब कर देगा और आपको ऐसी कालकोठरी में बंद कर देगा जिसमें न बल्ब होगा न खिड़की | लेकिन अगर आप 55,000 करोड़ रुपय कि चोरी करते हैं तो आपको 40 फ़ीट के कक्ष में रखा जाएगा जिसमें चार खंड होंगे - इंटरनेट, फ़ैक्स, मोबाइल फ़ोन और दस लोगों का स्टाफ़, जो आपके जूते साफ़ करेगा और आपका खाना पकाएगा |

हिंदुस्तान के कुछ बेहद जाने-माने क़ैदियों के विस्तृत प्रत्यक्ष साक्षात्कारों पर आधारित इस पुस्तक में पुरुस्कार प्राप्त पत्रकार सुनेत्रा चौधरी जेल के वी.आई.पी. जीवन में झाँकने का एक अवसर उपलब्ध कराती हैं | पीटर मुखर्जी अपनी 4 x 4 की कोठरी में की करते हैं? दून स्कूल के 70 वर्षीया भूतपूर्व छात्र, जिन्होंने 7 साल से ज़्यादा जेल में बिताये हैं, वे किस तरह लगातार अपीलें करते हुए अपना केस लड़ने का संकल्प क़ायम रखे हुए हैं? अमर सिंह से उन दुर्भाग्यपूर्ण दिनों में कौन-कौन मिलने आया, जिसने इस बात को तय किया कि उनके भावी दोस्त और सहयोगी कौन होंगे?

हिंदुस्तान के जाने-माने क़ैदी पहली बार अपने किस्से सुना रहे हैं - 'ब्लेडबाज़ों' से लेकर यातना-कक्षों तक, एयर कंडीशनरों से युक्त जेल की कोठरियों से लेकर पांच सितारा होटलों से आने वाले भोजन तक, गुदगुदे बिस्तरों से लेकर प्राइवेट पार्टियों तक के क़िस्से - और यह भी कि वे किस तरह जेल या तथाकथित 'जेल-आश्रम' के भीतर ज़िन्दगी के अविश्वसनीय ब्योरों और अपने मुकदमों से जूझते, जेलों में सड़ रहे सैकड़ों क़ैदियों के साथ यह पुस्तक बन्दी बनाये जाने के मूलभूत उद्देश्य पर सवाल उठती है - क्या यह वाकई सुधर है या उस व्यवस्था का दुरुपयोग है जिसका हम हिस्सा हैं ?

Subjects

You may also like
  • Yugdrashta Bhagat Singh
    Price: रु 295.00
  • Bharat Ke Krantikari
    Price: रु 135.00
  • Mein Angrezo Ka Jasoos Tha
    Price: रु 100.00
  • Bhagat Singh: Ek Jwalant Itihas
    Price: रु 100.00
  • Kala Pani: Krantiveero Ka Tirth Sthal
    Price: रु 125.00
  • Bandi Jeevan
    Price: रु 175.00
  • Chandrashekhar Azad Aur Unke Do Gaddar Saathi
    Price: रु 100.00
  • Khudiram Bose: Ek Adbhut Prerak Vyaktitva
    Price: रु 90.00
  • Shahid Madanlal Dhingra Evam Shahid Sardar Udham Sinh
    Price: रु 85.00
  • Bhagat Singh Ke Durlabh Dastavez Aur Kranti Ka Barahmasa
    Price: रु 100.00
  • Shahid Bhagat Singh Kranti Ka Sakshya
    Price: रु 295.00
  • Bhagat Singh Aur Unke Sathiyo Ke Dastavez
    Price: रु 295.00